• November 27.2020

  • आरती अरोरा

अगर आपके हौसलें बुलंद हैं और किसी चीज को पाने के लिए सच्ची लगन के साथ कड़ी मेहनत कर रहे हैं तो बड़ी से बड़ी सफलता आप हासिल कर लेंगे।एक ऐसा ही नाम है, जिसने दुनिया को दिखा दिया कि किसी बड़े मुकाम को हासिल करने के लिए केवल मजबूत इरादे और कड़ी मेहनत की जरूरत होती है। ये नाम है आईएएस आरती अरोरा। इनका कद 3 फुट 3 इंच है, लेकिन ओहदा इतना बड़ा है कि ये एक जिले पर राज करती हैं।

2006 बैच की IAS अधिकारी आरती राजस्थान में अपने स्वच्छता मॉडल ‘बंको बिकाणो’ से पीएमओ तक को मंत्रमुग्ध कर चुकी हैं। आरती की काबिलियत और काम को देखकर भारत सरकार उनको कई बार सम्मानित भी कर चुकी है। दिल्ली में श्रीराम लेडी कॉलेज से पढ़ाई करने वाली आरती ने अपने कद को कभी सफलता के मार्ग में बाधक नहीं बनने दिया। IAS आरती अरोरा आज लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बन चुकी हैं। लाखों लड़कियां उनको प्रेरणा स्त्रोत मानती हैं।

आरती का जन्म उत्तराखंड के देहरादून में हुआ था। उनके पिता राजेंद्र अरोरा भारतीय सेना में कर्नल है और माता श्रीमती कुमकुम अरोरा एक स्कूल प्रिंसिपल हैं। आरती के माता पिता को उनकी शारीरिक कमजोरी के बारे में डॉक्टर ने जन्म के समय ही बता दिया था। इसके बाद उनके माता पिता ने दूसरी संतान को जन्म ना देने का फैसला लिया था और आरती की पढ़ाई के लिए हर सुविधा उपलब्ध कराई और आरती की प्रारंभिक शिक्षा उत्तराखंड में हुई।आरती ने स्कूल की पढ़ाई देहरादून के प्रतिष्ठित वेल्हम गर्ल्स स्कूल से की। इसके बाद वह दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज ऑम कामर्स में अर्थशास्त्र में दाखिला लिया। अर्थशास्त्र में दिल्ली विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन करने के बाद UPSC की तैयारी शुरू की। साल 2006 में उनका चयन सिविल सर्विस में हुआ।

खुद को कभी कमजोर नहीं समझा
आरती का कद छोटा था इसलिए उन पर लोग कमेंट करते थे, लेकिन नकारात्मक प्रतिक्रिया से आरती कभी निराश नहीं हुईं। बल्कि आरती ने यह ठान लिया कि ’’इसी छोटे कम में मैं कुछ बड़ा करके दिखाऊंगी।’’ नकारात्मक कमेंट आने के साथ ही आरती ने पढ़ाई और मेहनत करनी बढ़ा थी। आखिरकार 2006 में उनका सफलता मिली और लोगों का मुंह बंद हो गया।

क्या है आपकी कहानी ज़िद्द की ? हमें बताएँ   +91-8448983000