• January 2.2020

  • SEEMA GILL

मेरा नाम सीमा गिल है और मैं व्यवसाय से एक पत्रकार हूँ। जब मैंने अपना यह व्यवसाय शुरू किया तब मने सोच नहीं था की मैं ज़िन्दगी में पत्रकार बनूँगी। मेरा हमेशा से सपना था की मैं एक आईपीएस अफसर बनु, क्यूंकि मुझे हमेशा से यह लगता था की जिस समाज ने हमे इतना कुछ दिया है उसे हमे भी बदले में कुछ देना चाइये। मैं हमेशा से चाहती थी की मैं लोगो के लिए कुछ करूँ और उनकी प्रेरणा का स्तोत्र बनु। और इसी कारण जब मैंने अपना कॉलेज पूरा किया तब मैंने आईपीएस अफसर बनने का मन बना लिया था। लेकिन किसी कारण वश आईपीएस बनने का सपना पूरा न हो पाया और फिर मैंने पत्रकारिता की तरफ अपना रुख किया। मेरे अनुसार पत्रकारिता व्यवसाय भी एक ऐसा जरिया है जिससे मैं लोगो से जुड़ सकती हूँ और उनके लिए कुछ कर सकती हूँ।

मेरा मकसद हमेशा यही होता है की मैं कैसे लोगो के लिए अच्छा अवसर पैदा करूँ और उनकी प्रेणना का स्तोत्र बनु। मैं अपनी बातो से अपने काम से उनके मन में यह इच्छा जगाह संकु की उन्हें अपनी ज़िन्दगी में आगे बढ़ना है और कुछ कर दिखाना है। यहि मेरी ज़िद्द है और जनून भी। मुझे यह लगता है की मेरी ज़िद्द में सबसे अछि बात ये है की इस ज़िद्द को पुरा करने में न तोह कोई पासे लगते है और न ही कोई साधन की ज़रूरत होती है। मैं जहां भी जाती हुँ या जहां भी खड़ी होती हुँ मेरे सामने जो भी होता है मैं उसको प्रेणना देती हु और उसको यह एहसास दिलाती हूँ की हर एक इंसान में यह क़ाबलियत है की वो समाज की भलाई के लिए कुछ कर सके। मेरी ज़िन्दगी की अब यही ज़िद्द है और मैं यह ज़िद्द अपने मरते दम तक ज़िंदा रखूंगी। मेरा लक्ष्य की जब मैं अपनी ज़िन्दगी के अंतिम पड़ाव पर हूँ तब मुझे ये लगे की मैंने कई लोगो को एक अच्छी मकसद भरी ज़िन्दगी जिने के लिएको प्रेरित किया है।

हम सब देश वासियो का ये ही मकसद और ज़िद्द होनी चाइये की हम सब एक सकारात्मक सोच रखे और हम सबका जीवन दुसरो को देने के लिए हो क्यूंकि हम जब तक दुसरो के लिए कुछ नहीं करते, उन्हें कुछ देते नहीं तब तक हमारा ज़िन्दगी का चक्र पूरा नहीं होता। इसलिए यह ज़िद्द कर लीजिये की हम ज़िन्दगी अपनों के साथ साथ दुसरो के लिए, अपने समाज के लिए और उससे भी ऊपर अपने देश के लिए जिए।

क्या है आपकी कहानी ज़िद्द की ? हमें बताएँ   +91-8448983000